• Mon. May 20th, 2024

aaaajkitaazakhabar.com

ताजगी भरी खबरें, सटीक और सबसे पहले

VIDEO : केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने द्वारका एक्सप्रेसवे को बताया इंजीनियरिंग का चमत्कार

वीडियो के मुताबिक, द्वारका से मानेसर तक यात्रा का समय 15 मिनट, मानेसर से इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे तक 20 मिनट, द्वारका से सिंघु बॉर्डर तक 25 मिनट और मानेसर से सिंघु बॉर्डर तक 45 मिनट हो जाएगा.

केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने आज एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर एक वीडियो साझा किया, जिसमें नवनिर्मित द्वारका एक्सप्रेसवे, भारत का पहले आठ-लेन एलिवेटेड एक्सप्रेसवे के बारे में बताया गया है. नितिन गडकरी ने वीडियो को कैप्शन के साथ साझा किया, “इंजीनियरिंग का चमत्कार: द्वारका एक्सप्रेसवे! भविष्य का एक अत्याधुनिक सफर.” वीडियो के अनुसार, द्वारका एक्सप्रेसवे एक चार-पैकेज राजमार्ग है जिसकी लेन-चौड़ाई 563 किमी है.

यह सड़क राष्ट्रीय राजमार्ग 8 पर शिव मूर्ति से शुरू होती है और गुरुग्राम में खेड़की दौला टोल प्लाजा पर समाप्त होती है. यह भारत की पहली परियोजना है जिसके लिए 1,200 पेड़ों का पुनः प्रत्यारोपण किया गया. एक बार पूरा होने पर, परियोजना दिल्ली और हरियाणा के बीच कनेक्टिविटी में काफी सुधार करेगी. वीडियो के मुताबिक, द्वारका से मानेसर तक यात्रा का समय 15 मिनट, मानेसर से इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे तक 20 मिनट, द्वारका से सिंघु बॉर्डर तक 25 मिनट और मानेसर से सिंघु बॉर्डर तक 45 मिनट हो जाएगा.

जानकारी के मुताबिक यह परियोजना द्वारका, सेक्टर 25 में अंतर्राष्ट्रीय कन्वेंशन सेंटर की कनेक्टिविटी को भी मजबूत करेगी. एक्सप्रेसवे के दोनों ओर तीन-तीन लेन की सर्विस रोड हैं. यातायात की भीड़ से बचने के लिए इन सर्विस लेन पर प्रवेश बिंदु बनाए गए हैं. वीडियो के मुताबिक, एक्सप्रेसवे के निर्माण में दो लाख टन स्टील का इस्तेमाल किया गया है, जो एफिल टॉवर में इस्तेमाल हुए स्टील से 30 गुना ज्यादा है. साथ ही प्रोजेक्ट में 20 लाख क्यूबिक मीटर सीमेंट कंक्रीट का इस्तेमाल किया गया है, जो बुर्ज खलीफा में इस्तेमाल से छह गुना ज्यादा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *